निकाल ली गई बोरवेल में फंसी 3 साल की सना, काम आ गईं पूरे बिहार की दुआएं

लाखों लोगों की दुआ काम आ गयी. मुंगेर में लगभग 28 घंटे के रेस्क्यू आॅपरेशन के बाद 43 फीट नीचे बोरवेल में फंसी बच्ची सना को बाहर निकाला गया. इसमें एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना के साथ स्थानीय पुलिस व प्रशासन के अधिकारी भी लगे रहे. मीडिया के लोग भी वहां कल शाम से लगे हुए हैं. बच्ची को निकालकर फिलहाल मेडिकल उपचार के लिए हॉस्पिटल भेजा गया है.

बता दें कि अब से थोड़ी देर पहले जब रेस्क्यू टीम बच्ची से सिर्फ एक फीट की दूरी पर थी, तभी वहां मौजूद प्रशासन और बचाव दल को हाई अलर्ट पर कर दिया गया था. पुलिस और सेना के जवानों ने मिलकर खुदाई स्थल के पास सुरक्षा घेरा बना लिया था. वहां पर स्थानीय और दूर-दूर से भी आये हजारों लोगों का हुजूम जमा हो गया था. इसके साथ ही एम्बुलेंस भी तैयार कर नजदीकी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया था.

 

कैसे हुआ हादसा

बता दें कि उक्त बच्ची सोनू उर्फ़ सना अपने नाना उमेश नंदन साव के पास 1 सप्ताह पूर्व ही आई थी. सना के पिता नचिकेता PNB बैंक कर्मी  हैं जो वीर कुंवर सिंह कॉलोनी बासुदेवपुर थाना क्षेत्र के निवासी हैं. नाना ने घर के बाहर वाले कमरे में 4 दिन पूर्व ही बोरवेल लगवाया था. बोरवेल के पाइप  के चारों ओर एक फ़ीट की जगह, जिसमें कंक्रीट डाला जाता है, उसे ढका नहीं गया था.  उसी में  बच्ची आज अचानक शाम 4:00 बजे खेलते-खेलते गिर गई.

जारी था दुआओं का दौर

बोरवेल में गिरी 3 वर्षीय बच्ची सन्नो की सलामती के लिए हर जगह से प्रार्थना और दुआ किया जा रहा था. सभी की यही चाहत थी कि सन्नो किसी तरह सुरक्षित निकल जाये. घटना स्थल पर हवन के साथ ही पूरे राज्य से लोग प्रार्थना कर रहे थे. सना की सलामती की प्रार्थना नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी की. तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर लिखा – बिहार के मुंगेर में गहरे बोरवेल में गिरी 3 वर्षीय मासूम सन्नो का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. हम भगवान से प्रार्थना करते है कि सन्नो का रेस्क्यू आपरेशन सफल हो और सन्नो सकुशल बाहर आ जाये.

Source:livecities.in

Comment